UP Scholarship Yojana: अभिभावकों के खाते में 1100 रुपये भेजेगी सरकार, जानें कैसे

UP Scholarship Yojana: उत्तर प्रदेश सरकार ने छात्रों को शिक्षा हेतु प्रेरित करने के लिए उत्तर प्रदेश स्कालरशिप योजना को शुरू किया है। यह छात्रवृति योजना राज्य के गरीब परिवार के बच्चों को प्रदान करने के लिए बनायीं गयी है। इस योजना के माध्यम से राज्य के छात्रों के अभिभावकों (पेरेंट्स) के बैंक खातों में छात्रवृति राशि भेजी जाएगी। योजना का लाभ केवल उन्ही छात्रों को मिलेगा जो यूपी राज्य के कॉउंसिल (परिषदीय) विद्यालयों में पढाई कर रहे है।

योजना से मिलने वाली राशि से छात्र अपनी शिक्षा पूरी कर सकेंगे और उन्हें अपनी पढाई बीच में नहीं छोड़नी पड़ेगी। योजना का लाभ यूपी राज्य के 1 करोड़ 80 लाख छात्रों को प्रदान किया जायेगा। चलिए आज हम आपको बताने जा रहे है कि कैसे आप यूपी स्कालरशिप योजना का लाभ प्राप्त कर सकते है।

राज्य के सभी छात्रों के पेरेंट्स के खाते में भेजे जायेंगे 1100 रूपये

स्कालरशिप योजना के माध्यम से सरकार सभी गरीब छात्रों के अभिभावकों के खाते में 1100 रुपये की राशि ट्रांसफर करेंगी। इसके लिए पेरेंट्स का बैंक खाता होना बहुत जरुरी है जो आधार कार्ड से लिंक होना अनिवार्य है। प्राइमरी व ऊपर प्राइमरी में पढाई कर रहे बच्चों को यह पैसे इसलिए दिए जायेंगे ताकि वह स्कूल बैग, यूनिफार्म, किताबे, मोज़े, जूत्ते आदि खरीद सके और जो भी कक्षा 1 से 8 में पढ़ रहे है उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। जिससे वह विद्यालय जाने के अपनी जरुरत की चीजे खरीद सके।

यह 1100 रुपये अभिभावकों को इसलिए दिए जा रहे है ताकि वह बच्चों के लिए स्कूल का सामान ले सके जिसमे वह उन्हें 2 जोड़ी स्कूल यूनिफार्म के लिए 600 रुपये (1 यूनिफार्म के 300 रूपये), स्वेटर के लिए 200 रुपये, 1 जोड़ी जूते और 2 जोड़ी जुराब के लिए 125 रुपये और स्कूल बैग के लिए 175 रूपये के अनुसार जरुरत की चीजे दिला सके।

क्यों शुरू किया गया 1100 रुपये की राशि अभिभावकों के खाते में भेजने का फैसला

जैसा की आप सभी जानते ही थे पहले जो भी बच्चे प्राइमरी या अपर प्राइमरी में पढ़ रहे है उनके लिए सरकार द्वारा ही बच्चों की स्कूल की चीजे जैसे: बैग, स्कूल ड्रेस, मोज़े, जूते आदि मुफ्त में उपलब्ध करवाएं जाते थे। लेकिन कुछ समय से यह देखा जा रहा था कि सरकार द्वारा भेजी गयी चीजों में घपला किया जा रहा था। कुछ दलालों द्वारा जो चीज गरीब परिवार के बच्चों को दी जाती थी उसकी क्वालिटी बहुत ही बेकार रहती थी बच्चों के ड्रेस का साइज से बेकार क्वालिटी के बैग आदि की समस्या खड़ी हो रही थी। इसके साथ ही कई बार तो नागरिकों तक सामान ही नहीं पहुंच रहा था। जिसके कारण नागरिकों द्वारा शिकायते आने लगी थी। इसी स्थिति को देखते हुए योगी सरकार ने यह फैसला लिया कि वह सीधा छात्रों के अभिभावकों के खाते में 1100 रुपये की सहायता राशि ट्रांसफर करेंगे जिससे वह खुद से अपने बच्चों के लिए सामान खरीद सकेंगे। इससे देश में घपला करने वाले लोगों में कमी आएगी और भ्रस्टाचार खत्म हो सकेगा और सभी बच्चों को उनका हक़ मिल सकेगा।

यूपी छात्रवृति योजना का लाभ पाने के लिए आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी

योजना के तहत मिलने वाली राशि बच्चों के पेरेंट्स के बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी। इसके लिए आपको आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी। यूपी स्कालरशिप योजना का लाभ स्कूल द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार ही बच्चों को मिल जायेगा।

ऐसी ही और भी सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट को www.nvsrobhopal.com बुकमार्क जरूर करें ।

Leave a Comment